All for Joomla All for Webmasters
19
Sun, May

ब्लैंक : फिल्म समीक्षा

बॉलीवुड में करण कापड़िया को लांच करने के लिए 'ब्लैंक' फिल्म का निर्माण किया गया है। करण की मां सिम्पल कापड़िया फिल्म एक्ट्रेस डिम्पल कापड़िया की बहन थीं। उन्होंने भी अभिनेत्री और ड्रेस डिजाइनर के रूप में काम किया। सिम्पल की मृत्यु के बाद करण को डिम्पल ने ही पाला-पोसा।

आज सिनेमाघरों में रिलीज हो रही है 'स्टूडेंट ऑफ द ईयर 2'

इस फिल्म में टाइगर श्रॉफ दिखेंगे, वहीं अनन्या पांडे और तारा सुतारिया इस फिल्म से एक्टिंग में डेब्यू कर रही हैं. फिल्म के ट्रेलर को काफी पसंद किया गया है. गाने भी पॉपुलर हुए हैं.

नोटबुक : फिल्म समीक्षा

सलमान खान समय-समय पर नए चेहरों को अवसर देते रहते हैं। 'नोटबुक' के जरिये उन्होंने ज़हीर इकबाल और प्रनूतन बहल को अवसर दिया है। 2014 की फिल्म 'टीचर्स डायरी' का यह हिंदी रिमेक है जिसे भारत के अनुसार ढाला गया है।

बदला : फिल्म समीक्षा

सुजॉय घोष की फिल्म 'बदला' स्पैनिश फिल्म 'द इनविज़िबल गेस्ट' से प्रेरित है जिसे थोड़ी-बहुत फेरबदल के साथ हिंदी में बनाया गया है। यह एक थ्रिलर मूवी है जो मुख्यत: दो किरदारों नैना सेठी (तापसी पन्नू) और बादल गुप्ता (अमिताभ बच्चन) के इर्दगिर्द घूमती है।

RAW Review‌: कमजोर कहानी में एक्टिंग से प्रभावित करते हैं जॉन अब्राहम

मद्रास कैफे और परमाणु जैसी पॉलिटिकल थ्रिलर फिल्में कर चुके जॉन अब्राहम पिछले कुछ समय से अपने आपको एक भरोसेमंद एक्टर के तौर पर स्थापित करने की कोशिश कर रहे हैं और इसी कड़ी में उनकी फिल्म रॉ रिलीज़ हुई है.

फोटोग्राफ : फिल्म समीक्षा

निर्देशक रितेश बत्रा ने अपनी पहली फिल्म में दिखाया था कि किस तरह से 'लंचबॉक्स' के जरिये रिश्ते बन जाते हैं। 'फोटोग्राफ' में उन्होंने फोटो के जरिये रिश्तों को जोड़ा है। फिल्म 'लंचबॉक्स' में भोजन की महक थी, लेकिन 'फोटोग्राफ' महज एक प्लेन फिल्म है।

गली बॉय : फिल्म समीक्षा

1974 में मनोज कुमार ने 'रोटी कपड़ा और मकान' बनाई थी जिसके जरिये दर्शाया गया था कि हर भारतीय की यह मूलभूत जरूरत है। वक्त में बदलाव नहीं आया है और आज करोड़ों भारतीय अभी भी इससे वंचित हैं।

More Articles ...

Page 1 of 5